Tuesday, 15 February 2011

करमापा मामले में इंटरपोल की मदद लेगी पुलिस


करमापा मामले में इंटरपोल की मदद लेगी पुलिस नहान। तिब्बती धर्मगुरु करमापा उग्येन त्रिनले दोरजी के धर्मशाला स्थित आवास से मिली विदेशी मुद्रा के मामले में कुछ विदेशी संदिग्धों से पूछताछ के लिए पुलिस इंटरपोल की मदद लेगी। इस सिलसिले में जल्द ही रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जाएगा। यह जानकारी मंगलवार को हिमाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एस मिनहास ने दी।

डीजीपी ने बताया कि करमापा के चीनी संबंधों की जांच चल रही है। इसी के चलते चीन के कुछ लोगों से पूछताछ की आवश्यकता है। इसलिए इंटरपोल की मदद लेने की जरूरत पड़ी है, ताकि उन्हें भारत लाया जा सके और जांच को आगे बढ़ाया जा सके।

करमापा का मामला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के समक्ष भी रखा गया। मंगलवार को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में बौद्ध समुदाय की सदस्य स्पालजस एंगमो की अध्यक्षता में करमापा के अनुयायियों का शिष्टमंडल नई दिल्ली में सोनिया गांधी से दस जनपथ में मिला। उन्होंने सोनिया गांधी को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराया। उनसे मामले में हस्तक्षेप की मांग की। साथ ही करमापा को सिक्किम जाने की अनुमति दिये जाने की भी अपील की।

छह बेनामी संपत्तियां सरकार के नाम दर्ज

धर्मशाला। निर्वासित तिब्बतियों की छह बेनामी संपत्तियां मंगलवार को सरकार के नाम दर्ज हो गई। निर्वासित तिब्बती सरकार की ओर से दी गई सूची के आधार पर 44 संपत्तियां पहले ही सरकार के नाम चढ़ाई जा चुकी हैं। मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने कहा है कि बेनामी संपत्ति चाहे किसी हिमाचली अकृषक की हो या शरणार्थी की, सभी पर कानून के दायरे में कार्रवाई की जाएगी।

कांगड़ा के उपायुक्त आरएस गुप्ता ने बताया कि बेनामी संपत्तियों के दाखिल खारिज से पूर्व दोनों पक्षों को नोटिस भेजा गया था। इसके बाद तिब्बतियों के अधिवक्ता आरएस राणा की उपस्थिति में ही प्रक्रिया पूरी हुई।

No comments:

Post a Comment